नन्हें मुन्नो के लिए भौतिकी – सिकारुक (Physics for Kids – Sikoruk)

In this post, we will see the book नन्हें मुन्नो के लिए भौतिकी – सिकारुक in Hindi (Physics for Kids – Sikoruk).

h-rus-bhautiki_0000

इस पुस्तक के बारें में

इस पुस्तक में  लेखक ने सरस ढंग से नन्हें-मुन्नो का भौतिकी की मुख्य परिघटनाओ व नियमों से परिचय कराया है। स्कूल में पढ़ाई शुरू करने से पूर्व भौतिकी की विभिन्न धारणाओं को अच्छी तरह समझने के लिए ये पुस्तक बच्चों को केवल पढ़कर सुनना ही पर्याप्त नहीं है।इसके लिए इसमें वर्णित परिघटनाओं का बड़ों के साथ बैठकर प्रयोग तथा प्रेक्शन करना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। आशा है की रंगबिरंगी तस्वीरें पुस्तक को भली-भाँति समझने में काफ़ी सहायक सिद्ध होगी।

पुस्तक बच्चों और माता-पिता के एक साथ बैठकर पड़ने के उद्देश्य से लिखी गयी है।

About the book:

In this book author has introduced main phenomenon and laws of physics to children in a simple way. Before starting the learning at school it is not sufficient to just read out this book to children for understanding various concepts in physics. For this, it is important the phenomena described in this book should be experimented and observed. We hope that the colourful pictures in the book will help in the understanding of the book.

This book has been written with the purpose of parents and children reading it together.

The sections cover major concepts in physics like sound, light, heat, speed, time, electricity and magnetism. The book is profusely illustrated with photographs of actual physical setups using dolls and other play materials.

The book was translated to Hindi from Russian by Ramindra Pal Singh and was published by Mir in 1987.

The Internet Archive Link

All credits to Guptaji

विषय सूची | Contents

ध्वनि | Sound

खिलौना वाइयलिन कैसे बना सकता है?

मचिस का टेलेफ़ोन

ध्वनि  कैसे तेज़ की जा सकती है?

ख़रगोश के कान लम्बे क्यूँ होते है?

अपनी आवाज़ कैसे देखी जा सकती है?

रिकार्ड से आवाज़  क्यों निकलती है?

प्रतिध्वनि

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

प्रकाश | Light

सूरज की किरणों को एक जगह से दूसरी जगह कैसे पहुंचाया जा सकता है

दर्पण ओ का जादू

धूप में आमलेट कैसे बना सकते हैं

पुराने जमाने का कैमरा

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

ऊष्मा | Heat

क्या हुआ कुछ गर्म होता है

बोतल से थर्मामीटर कैसे बनाया जा सकता है

माचिस के बिना आग कैसे जलाए जा सकती है

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

द्रव गैस तथा ठोस पदार्थ | Solids, Liquids and Gases

बलून क्यों उड़ता है

हवा क्यों चलती है

द्रव पत्थर

बर्फ के खिलौने

बारिश क्यों होती है

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

दिक् और गति | Time and Speed

तस्वीर के सैनिक से परेड कैसे कराई जा सकती है

कौन किधर जा रहा है

धूप की घड़ी

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

जड़त्व  व जेट गति | Inertia and Jet Speed

आलसी  पहिए

मोहन जादूगर कैसे बन गया

 जेट  डिब्बा

जेट खिलौने

खिलौना जिसने अंतरिक्ष पर विजय प्राप्त की

जहाज को पाल की क्या आवश्यकता है

पुरानी चक्की

पतंग  क्यों उड़ती है?

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

विद्युत तथा चुंबकत्व | Electricity and Magnetism

थोड़ी सी विद्युत कैसे पैदा की जा सकती है?

बिजली के बल्बों की माला

चुंबाकों के बारे में

जादू की कील 

प्रश्न और प्रयोग | Questions and Experiments

 

 

 

 

 

 

About The Mitr

I am The Mitr, The Friend
This entry was posted in books, mir books, mir publishers, physics, science and tagged , , , , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

7 Responses to नन्हें मुन्नो के लिए भौतिकी – सिकारुक (Physics for Kids – Sikoruk)

  1. s.sanjay says:

    मित्रों, इस किताब का अनुवाद मैंने भी शुरू कर दिया था, मूल रूसी से . नौकरी और समयाभाव के कारण पूरा नहीं कर पाया . दामित्र भाई इमेल दें तो प्रारम्भिक अध्यायों का अनुवाद भेज सकता हूँ . अरविन्द जी की तरह मेरी भी तमन्ना है कि इस क्षेत्र में काम किया जाए, अन्यथा जनता का बड़ा हिस्सा विज्ञान की शिक्षा समुचित ढंग से पाने में विफल ही रह जाएगा .

  2. Hitesh Sharma says:

    Hello,
    This book was also published as ” Khel-Khel mey Bhautiki” by Gitanjali Prakashan, Delhi in 2005.
    But pictures are printed as Black & White and paper quality is ok and not that good.
    ISBN: 8190156683
    Publisher Address: Gitanjali Prakashan, 418, Maharam Mohalla, Vishvash Nagar,
    Delhi – 110032

  3. s.sanjay says:

    it was also published in translation in the children’s bimonthly magazine ‘Misha’ serially.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.